Active Listening

what is active listening

दोस्तों , हमने पिछले ब्लॉग में ये जाना है कि  Listening Skill को सीखना कितना जरूरी होता है , और  इसका आपके जीवन की सफलता असफलता में कितना अहम् योगदान होता है। अब हम सीखेंगे कि Active Listening skill क्या है और ये क्यों जरूरी है आपके लिए। 

Best bedtime story of a stone cutter and his wishes

11 simple tricks to save money daily

Active Listening क्या है ?  

Active Listening का मतलब है -” Actively Listening ” .. इसका मतलब होता है कि सामने वाला क्या कह रहा है ,  उसको पूर्ण रूप Concentrate करके सुनना , समझना। ये एक skill है जिस को पाने के लिए सीखने के लिए Practice करनी पड़ती है। 

अगर आप किसी speaker को ध्यान से सुन रहे हैं , तो एक अच्छा Active Listener होने के साथ साथ उस speaker को ये दिखाना भी जरूरी होता है कि आप उसपे ध्यान दे रहे हैं ताकि उसको ये ना feel हो कि जो वो बोल रहा है वो Uninteresting  है।

” Active Listening involves Listening with all senses “

Where to invest for better retirement

किसी भी बोलने वाले को आपको अपना interest दिखाना पड़ता है और उसके कई तरीके हैं –  जैसे आंख मिला के सुनते रहना , हाँ हाँ में अपना सर हिलाना , Smile करना ,और समझ में आने पर Yes बोलना। अगर आप इस तरह का feedback speaker को  देते हो तो उसे अपनी बात कहना आसान हो जाता है।

How to earn unlimited from Facebook

Whatsapp launched new security feature


Active Listening  का मतलब केवल ये नहीं  होता है कि आप बोलने वाले पर पूरा ध्यान दें बल्कि ये भी होता है कि आप Verbal और Non verbal Signs of Listening को भी Show  करें।


ये भी पढ़ें —
आपके अपने लिए 30 घंटे 

ज़िंदगी से परेशान हों तो इसको एक बार जरूर पढ़ें



Signs Of Active Listening :–

Non-Verbal Signs-

  • Smile–

अगर किसी बोलने वाले को आपको Listening Skill Show  करनी है , तो आपको उसके बोलते वक्त एक Acceptance की Smile pass करनी होती है। हाँ में सर हिलाने के साथ साथ smile देना बोलने वाले को ये दिखाता है कि उसे ध्यान से सुना और समझा जा रहा है। 

  • Eye Contact —

अगर आप सुनते समय बोलने वाले को देखते रहते हैं तो ये भी  बोलने वाले में एक आत्मविश्वास पैदा करता है।

Eye Contact के साथ एक हलकी सी Smile , Non Verbal Sign of Listening है। 

  • Posture —

Listener और Speaker के बीच में Posture का बहुत अहम् रोल होता है। active listener माना जाता है की सुनते समय थोड़ा आगे की ओर झुक कर बैठता है , जबकि ध्यान से न सुनने वाला बार बार अपना Posture बदलता रहता है। 

  • Mirroring —

सुनते वक्त Facial Expressions का show होना ही Mirroring कहा जाता है। Mimic Type के face expression देना आपके inattention को दिखाता है। 

  • Distraction —

 अगर आप Active नहीं हैं तो इसका इसका मतलब है कि  आप distracted हैं।  Distracted होने की कई निशानियां होती हैं जिनसे बोलने वाला आसानी से समझ जाता है कि  उसकी बातों में कितना interest रख रहे हैं। जैसे कि – उंगलियां फोड़ना ,  बालो में उंगलिया फेरना , बार बार घडी देखना। 

Best low investment business plans in India

How to earn double from your bank fixed deposits

Where is Arjuna’s GANDEEV now ?

Why Arjun tried to kill Yudhisthir in Mahabharata?

 Verbal signs of Active Listening

  • Positive Reinforcement–

अगर बोलने वाले को उसके बोले गए बातों के लिए  बीच – बीच में उत्साहित किया जाये तो ये Speaker के लिए Verbal sign होते हैं। पर एक बात का ध्यान रखना है कि अगर आप लगातार हर बात पे ” Very good ” बिलकुल सही कहा , जैसे शब्दों का प्रयोग ज्यादा करेंगे तो यह भी उसके लिए Irritating हो सकता है। 

  • Remembering —

हमारा दिमाग हमेशा तब ज्यादा शैतानी करता है जब हम कोई बात लम्बे समय तक याद रखने की कोशिश करते हैं। इसलिए ज्यादा लम्बी कोई बात याद रखने से अच्छा है , कि  हम बोलने वाले की छोटी छोटी बातों को याद  रखें। इसलिए अगर आप को केवल speaker का नाम भी याद रहता है और आप उसके बोले गए बातों की उसका नाम ले कर तारीफ करते हैं , तो यह भी आपके Active Listening को ही Show  करता है। 

  • Questioning —

एक अच्छा Listener कभी कभी बीच में Speaker से कुछ  Relevant Questions  पूछ कर अपना interest show करता है । साथ ही साथ वो बोलने वाले का भी interest बढ़ा देता है। इसके लिए अगर आप चाहें तो आप एक paper पर कुछ सवालों को भी लिख कर रख सकते हैं। 

  • Reflection —

Reflection मतलब कि आपको और Speaker को  सहमत होना चाहिए कि उसने जो  बोला है आपने वही एकदम सही सही समझा भी है।  दोनों के बीच में कोई भी misunderstanding नहीं है। 

  • Clarification —

Clarification का सीधा सा  मतलब होता है कि आप बोलने वाले से सवाल पूछते हैं जो उसको ये बताता है कि अपने उसकी बातों को ध्यान से सुना है।

Feeling depressed : Tricks to quickly release your depression from the life

———————————— 

Categories: Uncategorized

1 Comment

BE MOTIVATED · May 24, 2020 at 11:09 pm

Very useful

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *