One Day Or Day One


One Day Or Day One



हम सभी ने अलादीन और उसके जादुई लैंप की कहानी जरूर सुनी होगी और मुझे पक्का विश्वास है कि हम में से बहुत लोग उस जैसे किसी लैंप को पाने की ख्वाइश रखते होंगे। पर अलादीन की कहानी एक fairytale है और हमारी लाइफ उससे अलग। तो ज्यादा अच्छा ये है कि हम सपनो की दुनिया से बाहर निकलें और अपनी life के लिए आज से ही प्लानिंग शुरू करें। आज यही  हमारा topic है जिसपर हम बात करेंगे – “One Day Or Day One” 

We all must have heard the fairytale of Aladdin and the magical lamp he had. And I am sure everyone must have wished to have a lamp like that. But Aladdin’s story is a fairytale and our life is not like one. So it is better to put a hold on visionary life and start planning today for it. And here it comes the topic for the day we are going to discuss about. “One Day Or Day One”.





“One Day” मतलब future में आने वाला एक दिन।  वो दिन कोई जरुरी नहीं है कि आपकी जिंदगी में  आएगा ही। आ भी सकता है और नहीं भी आ सकता। जैसे ” एक दिन मैं dubai जाऊंगा”, “एक दिन मैं अपना business शुरू करूँगा “, ” एक दिन मैं Workout और Meditation शुरू करूँगा” ये जितनी भी Statements  हैं ये   सब Wishful Thinking कही जाती हैं। 

“Day One ” जबकि वो पहला दिन होता है जब हम कुछ plan करते हैं जो हमे हकीकत में लाना है। जैसे अगर आपको dubai जाना है तो पहला दिन वो होगा  जब आप Budget प्लान करते  हैं या travel agent से मिलते हैं। अगर आपकी इच्छा business शुरू करने की है तो जिस दिन आप  अपने एरिया में Potential Business ढूंढते हैं या अपने business के लिए Potential एरिया ढूंढते हैं वो ही आपका Day One होता है।


“One day” is a day in future. That day is not certain to come in your life. It may come or it may not. One day I will go to Dubai. One day I will start my own business. One day I will start workout and meditation. All of these above statements are wishful thinking. “Day one” on the other hand is first day of any plan you want to execute. If you wish to visit Dubai, then the first day can be planning for the budget or consulting travel agent. If starting business is your wish, the sorting which can be the potential business in your area is the first day or finding perfect area/location for the kind of business you want to pursue.  

तो इसीलिए ये कहावत “One Day Or Day One” बताती है कि या तो अपनी Wishful Thinking में ही लगे रहो जिससे कि आपको कभी कुछ हासिल नहीं होने वाला या फिर जो भी आप पाना चाहते हो उसके लिए आज से Plan करना शुरू कर दो। हमने अपनी लाइफ में बहुत सी कहानियां सुनी हैं जहा लोगों ने impossible को भी achieve करके दिखाया है। और इन Impossible को पूरा करने वाले वो लोग हैं जिन्होंने अपने goals के लिए Planning करना शुरू कर दिया न कि One Day का wait किया। सबसे पहले शेरपा , तेनजिंग नोरके की कहानी 
जिनका एवरेस्ट को फ़तेह करना उनके लगातार प्रयास और सटीक planning का नतीजा था। शेरपा पहाड़ो में ही रहते हैं और शायद उनमे से सैकड़ों ने एवरेस्ट को एक दिन (One Day ) फ़तेह करने के ख्वाब देखे होंगे , पर उनमे से केवल तेनज़िंग नोरके थे जिन्होंने अपने Dream को पूरा किया और असंभव को संभव बना दिया। तो कहावत ” One Day Or Day One ” की अपनी यही महत्ता है। अब आप पर है कि आप क्या चुनते हो केवल सपने देखना या उनको पूरा करना। 


So the phrase “One Day or Day one” indicates that you can either continue to wishful thinking that is never going to get what you want or start planning today to accomplish what you want.
We have come across several stories of achieving the impossible in our life. Those who do the impossible are the ones who start planning on their goals, and not visualizing of doing them one day. The story of the first Sherpa, Tenzing Norkay, to climb to the top of Mount Everest is the one of continuous efforts and effective planning. Sherpas are native to mountains and I believe hundred of them surely have dreamed of conquering the top of Everest one day. But it was only Tenzing Norkay who has put his dreams to execution, and did the impossible. Hence the phrase One Day or Day One holds its importance. It is you who decide. You can choose to only dream or to fulfill your dream.



आइये अब हम बात करते हैं कि हम अपनी जिंदगी के जो Visions हैं उनके लिए कैसे काम कर सकते हैं। सबसे जरुरी चीज़ जो मैं  आपके साथ शेयर करना चाहता हूँ  वो ये है की एक study के अनुसार हमारे goals /Visions /dreams के पूरा होने की Chances 49 % तक होती है अगर हम उन्हें कही लिख के रखते हैं। हमारा जो दिमाग है वो इतना Hard Working Maachine है कि हमे हर मिनट हर सेकंड दिमाग में thoughts आते  रहते हैं। लेकिन हमारे रोज़मर्रा के कामों में वो दिमाग से निकल जाते हैं। तो जाहिर सी बात है अगर हम उनको कही लिखते चलते हैं तो हमे हमारे Visions याद भी रहेंगे और हम उन्हें पूरा करने के लिए प्रयास भी कर पाएंगे। मगर ये Visions कोई Random Visions नहीं होने चाहिए। हमें ये Clearly पता होना चाहिए कि हम खुद को अगले 5 -10 -15 -20  साल कहाँ देखना चाहते हैं। jon and missy Butcher  एक concept Invent किया था जिसका नाम दिया था “LifeBook ” जिससे उन्होंने पूरे संसार में लोगों को ये सिखाया कि हमे कैसे अपने Visions Of Success को जीना है। 




Now let’s talk about how you can work effectively towards your visions in life. The most important thing I prefer is sharing a study that says 49 percent of your goals/visions/dreams have a chance of fulfillment if you write them. Our mind is such a hardworking machine that every now and then we get several thoughts. And some of them get out of brains as we move in our daily life. Hence writing down your visions might help you remember them and taking essential steps to accomplish them. But those visions/dreams should not be any random ones. You should know where would you like to see yourself in next 5-10-15-20 years of life. Jon and Missy Butcher have invented a concept called “Lifebook”, helping millions of people globally teaching them how to live their personal vision of success.

Happy Ending—

dreams
My Visions 

हम अभी तक की अपनी बातों से ये निष्कर्ष निकाल सकते हैं कि हमे अपने Visions या Dreams पर चलने के लिए 2 roads मिलती हैं – पहली छोटी दूरी की road जिसपे हम केवल सोच सकते हैं कि एक दिन (One Day ) हम सपने पूरे करेंगे , दूसरी road लम्बी Road होती है जो हमारे Day One के First Step से शुरू होती है और  final destination तक जाती है। 

अपने goals को लाइफ में पाने के लिए 5 simple steps follow करने चाहिए —
  • Validate Your Goals . अपने आप से पूछिए कि आप अगले 5 -10 -15 -20 साल में अपने को कहाँ देखना चाहते हैं। 
  • अपने Goals /Visions को कहीं लिख लीजिये और उन्हें किसी ऐसी जगह पर रखिये जहाँ आप उन्हें दिन में एक बार जरूर देख सकें। इससे आप खुद को motivated feel करेंगे। 
  • शुरुवात कीजिये और पूरा करने का प्रयास कीजिये। उसे छोटे छोटे steps में तोड़ लीजिये। 
  • अपने Goals को एक time limit दीजिये। जैसे जैसे आपका time पास आता जायेगा आप excited होते जायेंगे। 
  • और अंत में , अपने को स्वस्थ रखिये क्योकि किसी भी ख़ुशी को महसूस करने के लिए आपका शरीर से और दिमाग से स्वस्थ होना बेहद जरूरी है। 
We can conclude the discussion saying that visions and dreams have two roads to lead. One road is a short distant road where you only dream “one day” of it. And the second road is a longer road to the final destination starting with the first step on the “day one”.
Hence, for achieving your goals/dreams/visions in life, follow 5 simple steps.
1.       Validate your goals. Ask yourself where you want to see in 2-4-6-8-10-20 years.
2.       Write down your goals and visions. Place them somewhere you’ll see them at least once a day. You’ll feel motivated.
3.       Make it start. Make it measurable and achievable. Break it into steps.
4.       Timeline your goals. This step will never let you lose the needed excitement.
5.       And lastly, keep yourself healthy. As physical and mental health is basic requirement to feel the joy related to any happiness.

    Thank You

    इसे भी पढ़ें —-

     30 hours to myself


     multiple topic blog or single blog


     FAIL-Few Attempts In Learning













    Categories: Motivational

    3 Comments

    BE MOTIVATED · April 22, 2020 at 3:46 pm

    Beautifully explained.

    Unknown · April 22, 2020 at 4:02 pm

    Very nice and beautiful thought sir

    www.xmc.pl Info · February 12, 2021 at 7:41 pm

    There is obviously a lot to realize about this. I assume you made certain nice points in features also.

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *